नवम्बर 03, 2017

टाटा पावर द्वारा Q2 FY2017-18 परिणामों की घोषणा; मजबूत ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन (परिचालन लाभ मार्जिन) की पुष्टि

रिन्युएबल्स बिजनस PAT 200 प्रतिशत तक

  • H1 FY18 में कुल मिलाकर मजबूत प्रदर्शन। कॉनसॉलिडेटेड अंडरलाइंग बिजनस EBITDA# में 25 प्रतिशत की वृद्धि और तिमाही में 16 प्रतिशत की वृद्धि जो सभी व्यवसायों में मजबूत परिचालन प्रदर्शन के कारण संभव हुआ।
  • रिन्युएबल एक्विजिशन (अधिग्रहण) के अर्जित लाभ की वजह से, Q2 FY18 में रिन्युएबल बिजनस प्रॉफिट्स 200 प्रतिशत की उछाल के साथ रु. 173 करोड़ के स्तर पर, जबकि Q2 FY17 में यह केवल रु. 86 करोड़ था।
  • H1 FY18 कॉनसॉलिडेटेड PAT रु. 613 करोड़ रहा (₹152 करोड़ के वन ऑफ इम्पैक्ट्स से पूर्व) जो पिछले साल की तुलना में18% की वृद्धि दर्शाता है।
  • Q2 FY18 कॉनसॉलिडेटेड PAT रु.386 करोड़ रहा (रु.152 करोड़ के वन-ऑफ इंपैक्ट्स से पूर्व) जबकि पिछले साल इसी तिमाही यह रु.427 करोड़ था, जो मुख्य रूप से CGPL में 113 करोड़ के उच्च FX हानि के कारण हुआ।
  • Q2 FY17 की तुलना में 2 प्रतिशत परिचालन लाभ के साथ टाटा पावर स्टैंडअलोन ने भी मजबूत प्रदर्शन जारी रखा। निम्न डिविडेंड और CGPL से ब्याज लाभ नहीं होने के कारण PAT में गिरावट दर्ज की गई।
  • कोल कंपनियों ने CGPL में सुधार के तहत ईंधन की ऑफ-सेटिंग से मजबूत प्रदर्शन दर्शाया। पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में CGPLपर आगे रु.113 करोड़ के फॉरेक्स लॉस का असर पड़ा।
  • रु. 152 करोड़ के वन-ऑफ इंपैक्ट्स में शामिल हैं डोकोमो और रिठाला प्लांट के प्रोविजंस।

मुख्य वित्तीय झलकियाँ: Q2 FY18 बनाम Q2 FY17

  • कॉनसॉलिडेटेड (समेकित) PAT रु.386 करोड़ रहा (रु. 152 करोड़ के वन-ऑफ इंपैक्ट्स से पूर्व) जो कि पिछले साल इसी अवधि में रु. 427 करोड़ था। PYQ लाभ में PTMP का रु. 52 करोड़ PAT शामिल है जिसे अभी सेल के लिए रखा गया है और इसलिए यह कॉनसॉलिडेटेड नहीं है।
  • स्टैंडअलोन PAT रु. 163 करोड़ रहा (रु. 113 करोड़ के एक्सेप्शनल आयटम से पूर्व) जो कि पिछले साल इसी तिमाही में रु. 496 करोड़ था
  • कॉनसॉलिडेटेड रेवेन्यू* रु. 7,393 करोड़ रहा जो कि पिछले साल इसी तिमाही में रु. 7,285 करोड़ था
  • स्टैंडअलोन रेवेन्यू* 1,821 करोड़ रु. रहा जो कि पिछले साल इसी अवधि में 1,798 करोड़ रु. था

मुख्य व्यवसाय एवं संवृद्धि मुख्य बिंदु Q2 FY18

  • सब्सिडियरीज के साथ, टाटा पावर ने अपने सभी पावर प्लांट से 14,440 MUs पावर उत्पादन में सफलता पाई
  • टाटा पावर रिन्युएबल एनर्जी लि. (TPREL) ने Q2 FY17 से 49 प्रतिशत की उत्पादन क्षमता वृद्धि के साथ मजबूत परिचालन संवृद्धि दर्ज कराई
  • भारत में बिल भुगतान के लिए QR कोड की शुरुआत करने वाली टाटा पावर पहली कंपनी बनी
  • टाटा पावर ने मुंबई में शहर के पहले इलेक्ट्रिकल वाहन चार्जिंग अवसंरचना की स्थापना की
  • टाटा पावर ने जॉर्जिया में 187MW का हाइड्रो प्रॉजेक्ट पूरा किया जिसमें शीघ्र ही उत्पादन शुरू हो जाने की उम्मीद है

राष्ट्रीय: भारत की सबसे बड़ी एकीकृत ऊर्जा कंपनी टाटा पावर ने 30 सितंबर 2017 को समाप्त हुई तिमाही के परिणामों की आज घोषणा की जिसके तहत H1 FY18 के लिए कॉनसॉलिडेटेड प्रॉफिट (समेकित लाभ) में 18 प्रतिशत की वृद्धि (152 करोड़ के वन-ऑफ इंपैक्ट्स से पूर्व) दर्ज की गई। इस तिमाही के दौरान टाटा पावर ने अनेक फ्यूचर रेडी तकनीकी परिनियोजनों की शुरुआत की जैसे कि आसान बिल भुगतान के लिए QR कोड और मुंबई में इलेक्ट्रिकल वाहन चार्जिंग अवसंरचना, जिससे तकनीक-उन्मुख एकीकृत ऊर्जा कंपनी के रूप में इसकी स्थिति मजबूत हुई है।

प्रदर्शन संबंधी मुख्य बिंदु कॉनसॉलिडेटेड (समेकित)

  • समेकित आधार पर, टाटा पावर की Q2 FY18 रेवेन्यू* रु. 7,393 करोड़ रही जो पिछले साल रु. 7,285 करोड़ थी।
  • कॉनसॉलिडेटेड PAT रु.386 करोड़ रहा (रु.152 करोड़ के वन-ऑफ इंपैक्ट्स से पूर्व) जबकि Q2 FY17 में यह रु.427 करोड़ था, जिसमें शामिल है Q2 FY17 में PTMP का रु. 52 करोड़ PAT. PTMP को अभी सेल के लिए रखा गया है और इसलिए यह कॉनसॉलिडेटेड नहीं है।
  • Q2 FY17 की तुलना में टाटा पावर के रिन्युएबल बिजनस के लाभ में 200 प्रतिशत की उछाल दर्ज की गई। CGPL के अलावा ज्यादातर अन्य परिचालनों ने बढ़िया प्रदर्शन दर्ज कराई हैं। MPL, IPTC (जांबिया), तथा कोल कंपनियों ने पिछले साल की इसी तिमाही की तुलना में उच्च लाभ दर्ज कराई है।

प्रदर्शन संबंधी मुख्य बिंदु स्टैंडअलोन

  • 30 सितंबर 2017 को समाप्त हुई तिमाही के लिए स्टैंडअलोन रेवेन्यू* पिछले साल के रु.1,798 करोड़ की तुलना में रु.1,821 करोड़ रहा।
  • PAT रु.163 करोड़ रहा (113 करोड़ रु. के एक्सेप्शनल आयटम से पूर्व) जबकि पिछले साल इसी तिमाही यह रु.496 करोड़ था, जो मुख्य रूप से उच्च डिविडेंड तथा Q2 FY17 में CGPL से प्राप्त डीम्ड इंटरेस्ट के कारण हुआ।

कंपनी के प्रदर्शन पर बोलते हुए टाटा पावर के एमडी और सीईओ श्री अनिल सरदाना ने कहा, ‘तिमाही के दौरान कंपनी ने कठिन व्यवसाय परिस्थितियों के बावजूद जोरदार परिचालन दक्षता और प्रदर्शन दर्ज किए हैं। हमारे रिन्युएबल बिजनस ने बढ़िया प्रदर्शन करना जारी रखा है और जोरदार परिणाम दिए हैं। तिमाही के लिए कॉनसॉलिडेटेड प्रॉफिट (समेकित लाभ) रु. 386 करोड़ रहा (वन ऑफ इम्पैक्ट्स से पूर्व) जो सतत बेहतरीन प्रदर्शन को दर्शाता है। 10,501MW के ग्रॉस इंस्टॉल्ड जेनरेशन क्षमता तथा 26 करोड़ ग्राहकों के साथ इसने भारत की सबसे बड़ी एकीकृत ऊर्जा कंपनी का अपना स्थान कायम रखा है। कहने का अर्थ है, बिल भुगतान के QR कोड सेवा की शुरुआत, मुंबई और दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों की चार्जिंग के लिए पहले पावर यूटिलिटी की स्थापना के साथ हमने अपने ग्राहकों को अत्याधुनिक तकनीक उपलब्ध कराए हैं। हमें इस बात का पूरा विश्वास है कि हम अपने मजबूत संवृद्धि पथ पर आगे बढ़ते रहेंगे।’

*रेवेन्यू में शामिल हैं रेग्युलेटरी आय/व्यय
#अंडरलाइंग बिजनस EBITDA में शामिल हैं कोल कंपनियों की EBITDA.