दिसम्बर 22, 2016

टाटा सन्स की ओर से जारी बयान

मुंबई: कंपनी पिटीशन में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल आज किसी तरह की अंतरिम राहत नहीं दी। अदालत ने जनवरी, 2017 में नियत टाइम टेबुल के अनुसार उत्तर व रीज्वाइंडर्स फाइल करने के निर्देश दिए हैं। अदालत ये यह भी आदेश दिया कि वादी को इस मामले में अब और अधिक अंतरिम राहत नहीं मांगनी चाहिए।

टाटा संस का विश्वास है कि यह वाद कानून सम्मत नहीं है और अदालत इस मामले पर अगली सुनवाई के समय टाटा संस के पक्ष को सुनेगी।

टाटा संस इसके अलावा और कुछ भी नहीं कहना चाहती है क्योंकि यह मामला अदालत के पास विचाराधीन है।