नवम्बर 28, 2017

टाटा ओपन इंडिया इंटरनेशनल चैलेंज का 10वां संस्करण, बैडमिंटन की भावना को प्रोत्साहित करने के महत्वपूर्ण वर्ष का उत्सव मनाने के लिए

देश की उभरती बैडमिंटन प्रतिभाओं के प्रोत्साहन के एक दशक के उपलक्ष्य में आयोजन

  • टाटा ओपन इंडिया इंटरनेशनल चैलेंज 2017 का आयोजन 29 नवंबर से 3 दिसंबर, 2017 तक किया जा रहा है
  • इस टूर्नामेंट में आठ देशों के खिलाड़ी भाग ले रहे हैं, जिनके साथ 167 खिलाड़ियों की एक मजबूत भारतीय टीम होगी
प्रकाश पादुकोण, संस्थापक तथा निदेशक, PPBA, एक उभरते खिलाड़ी के साथ

मुंबई: देश की उभरती हुई बैडमिंटन प्रतिभाओं को पोषित करने के एक महत्वपूर्ण पड़ाव वर्ष (माइलस्टोन ईयर) के आयोजन के रूप में, टाटा समूह तथा टाटा कैपिटल ने आज, प्रकाश पादुकोण बैडमिंटन अकादमी (PPBA) के सहयोग से, टाटा ओपन इंडिया इंटरनेशनल चैलेंज के 10वें संस्करण के आयोजन की घोषणा की है। संभावनाशील खिलाड़ियों के लिए बहुप्रतीक्षित घरेलू इंटरनेशनल बैडमिंटन आयोजन का यह सत्र, 29 नवंबर को शुरू हो रहा है, जिसमें मुख्य ड्रॉ क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया (CCI), मुंबई में 30 नवंबर से, और फाइनल्स 3 दिसंबर से प्रारंभ होने वाले हैं। इस टूर्नामेंट के तहत 20,000 अमेरिकी डॉलर की पुरस्कार राशि रखी गई है। मलेशिया की लुइ वॉन इस टूर्नामेंट की रेफरी होंगी।

टाटा ओपन इंडिया इंटरनेशनल चैलेंज 2017 एशिया भर के संभावित बैडमिंटन खिलाड़ियों को प्रोत्साहन और प्रदर्शन के एक दशक पूरे होने का उत्सव मना रहे हैं। इस विश्वस्तरीय मंच ने कई खिलाड़ियों के लिए रास्ता बनाया है जैसे पीवी सिंधु– प्रथम भारतीय महिला खिलाड़ी जिसने ओलंपिक सिल्वर प्राप्त किया; ज्वाला गट्टा– एक विश्व डबल चैंपियन तथा 14 बार नेशनल चैंपियनशिप विजेता; गुरुसाई दत्त – 2014 में राष्ट्रमंडल कांस्य पदक विजेता; तथा ग्रैंड प्रिक्स विजेता चेतन आनंद के साथ अन्य कई खिलाड़ी जैसे एच एस प्रणय, अजय जयरामन, साई प्रनीत, जिन्होंने अपने जीवन को खेल के लिए समर्पित कर दिया है और विश्व के खेल मैदान पर भारत को गौरवान्वित किया है।

पुरुष एकल श्रेणी में, भारत के सौरभ वर्मा प्रथम वरीयता प्राप्त तथा भारत के अभिषेक येलगार द्वितीय वरीयता प्राप्त खिलाड़ी हैं। अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी जैसे मलेशिया से गियाप चिन गोह तथा लिम ची विंग भारतीय खिलाड़ियों जैसे प्रतुल जोशी और लक्ष्य सेन के खिलाफ खेलेंगे जिसमें बैडमिंटन प्रतिभाओं के बीच रोमांचक मुकाबला होना तय है। मलेशिया, भारत तथा थाईलैंड के कई उभरते हुए खिलाड़ी इस कतार में हैं जो वरीयता प्राप्त खिलाड़ियों के लिए चुनौती प्रस्तुत करेंगे।

महिला एकल श्रेणी में, भारतीय खिलाड़ी रितुपर्णा दास तथा श्री कृष्ण प्रिया कुदरावल्ली को क्रमशः प्रथम तथा द्वितीय वरीयता प्राप्त खिलाड़ी घोषित किया गया है। इसके अलावा, सिंगापुर से येओ जिया मिन तथा चुआ हुई जेनग्रेस, मलेशिया के यिन फन लिम तथा भारत के साई उत्तेजिता राव चुक्का अन्य महत्वपूर्ण खिलाड़ियों में शामिल हैं।

पुरुष डबल्स श्रेणी में, भारतीय खिलाड़ी, सात्विकसाईराज रानकीरेड्डी तथा चिराग शेट्टी को नंबर 1, तथा मानू आट्री तथा रेड्डी बी. सुमीथा को नंबर 2 वरीयता प्राप्त घोषित किया गया है। पुरुष डबल्स श्रेणी में, प्रतिस्पर्धी वरीयता प्राप्त खिलाड़ी भारत से हैं।

महिला डबल्स श्रेणी में भारत की जक्कमपुडी मेघना तथा पूर्विशा एस राम के साथ हांगकांग की एनजी टीएसजेड यू तथा यूअंग नगा टिंग को टॉप दो वरीयता प्राप्त टीम में शामिल किया गया है।

भारतीय खिलाड़ी प्रनव जेरी चोपड़ा तथा रेड्डी एन सिक्की के साथ मलेशिया के योगेंद्र कृष्णन तथा भारत के प्रजाक्ता सावंत को मिक्स डबल्स श्रेणी की टॉप दो वरीयताप्राप्त टीम में जगह दी गई है।

इस वर्ष, इसमें भाग लेनेवाले देशों में शामिल हैं भारत, बांग्लादेश, हांगकांग, सिंगापुर,  मलेशिया, न्यूजीलैंड, थाईलैंड तथा संयुक्त राज्य अमेरिका। भारत 167 खिलाड़ियों के एक ताकतवर दस्ते के साथ इसमें भाग ले रहा है जिसके साथ मलेशिया के 20, हांगकांग के 13, सिंगापुर तथा थाईलैंड प्रत्येक के 7 तथा अन्य देशों से 8 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं।

दसवें संस्करण के उद्घाटन के अवसर पर अपनी टिप्पणी में, PPBA के संस्थापक तथा निदेशक, प्रकाश पादुकोण ने कहा, “चूंकि हम इस प्रतिष्ठित आयोजन के दसवें वर्ष में प्रवेश कर गए हैं, हम बैडमिंटन की भावना तथा उसके द्वारा प्राप्त उच्च मूल्यों के प्रति सम्मान तथा उत्सव की भावना व्यक्त करना चाहते हैं। टाटा ओपन ने उभरते हुए खिलाड़ियों के लिए एक शानदार मंच तैयार किया है, और उन्हें देश में ही एक विश्वस्तरीय प्रदर्शन का अवसर प्रदान किया है, जिससे कई गंभीर बैडमिंटन खिलाड़ियों का भविष्य संवारा गया है। मैं PPBA के साथ सार्थक सहयोग करने के लिए टाटा समूह को भी धन्यवाद देना चाहूंगा। बीते दशक में कई रोमांचक पल आए और शानदार मैच खेले गए। मैं अगले दशक में बैडमिंटन तथा खेल में भारत की प्रगति के प्रति तहेदिल से आशान्वित हूं।” ;

सुप्रकाश मुखोपाध्याय, अध्यक्ष, टाटा स्पोर्ट्स क्लब ने कहा, “टाटा ओपन उल्लेखनीय रूप से सफल रहा है, जिसने देश को कुछ बेहतरीन बैडमिंटन खिलाड़ी दिए हैं। हमने एक दशक का अच्छा समय तय किया है, लेकिन हम इस आयोजन से और कई बैडमिंटन के जीनियस उभरते हुए देखने को उत्सुक हैं। मैं इस पूरे आयोजन में लगातार सहायता प्रदान करने के लिए PPBA को धन्यवाद देना चाहता हूं, उनका सहयोग बेहद शानदार रहा है। हम अपनी हार्दिक कृतज्ञता उन खिलाड़ियों तथा बैडमिंटन प्रेमियों के प्रति भी ज्ञापित करना चाहते हैं जिन्होंने इन सालों में हमें यह टूर्नामेंट आयोजित करने के लिए प्रेरित किया है।”

अविजित भट्टाचार्य, मुख्य मानव संसाधन अधिकारी तथा प्रमुख, कॉरपोरेट धारणीयता, टाटा कैपिटल ने कहा, “टाटा कैपिटल अपने हितधारकों तथा विस्तृत समाज के लिए अच्छा करने में विश्वास करते हैं और बैडमिंटन के खेल को समर्थन प्रदान करने के लिए हमारी प्रतिबद्धता हमारी इसी सोच का प्रतिफल है। हम 9 वें वर्ष में जारी टाटा ओपन में सहभागी के रूप में, और प्रकाश पादुकोण बैडमिंटन अकादमी के साथ सहभागी के रूप में शामिल होते हुए अत्यंत गौरवान्वित हैं, जो भारत में बैडमिंटन के विकास के लिए लगातार काम करते रहे हैं। हम मानते हैं कि अनवरत कॉरपोरेट समर्थन के माध्यम से, बैडमिंटन के खेल में मौलिक प्रगति होगी और प्रतिभाओं को प्रदर्शित करने के लिए टाटा ओपन जैसे अनूठे मंच के द्वारा, इस खेल को मुख्यधारा में शामिल करने में सफलता मिलेगी।”

क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया (CCI) मुंबई परिसर सहयोगी हैं और अपने अत्याधुनिक वातानुकूलित बैडमिंटन कोर्ट में इस टूर्नामेंट की मेजबानी कर रहे हैं। अग्रणी बैडमिंटन उपकरण निर्माता योनेक्स अधिकृत उपकरण आपूर्तिकर्ता है।

पीपीबीए की सहभागिता के एक अंग के रूप में टाटा समूह और टाटा कैपिटल द्वारा बेंगलुरु और मुंबई में टाटा पादुकोन बैडमिंटन सेंटर्स को सहायता दी जाती है। केंद्र पर उन युवा खिलाड़ियों को उच्चकोटि का प्रशिक्षण और कोचिंग दी जाती है जिन्हें योग्यता के आधार पर चुना जाता है, और जिन्हें छात्रवृत्ति के आधार पर प्रशिक्षण तथा सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। अपने छोटे से कार्यकाल में, इस अकादमी ने बैडमिंटन सेंटरों के माध्यम से, कई राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर के चैंपियन पैदा किए हैं।

विगत में कुछ स्टार प्रदर्शनकर्ता, जिन्होंने PPBA में प्रशिक्षण पाया है, उनमें शामिल हैं अनूप श्रीधर, 2004 तथा 2005 में दो बार के राष्ट्रीय चैंपियनशिप विजेता, तथा पूर्व ओलंपिक खिलाड़ी अरविंद भट, 2008 तथा 2010 में दो बार राष्ट्रीय चैंपियनशिप विजेता; 2008 तथा 2012 में दो बार की राष्ट्रीय महिला चैंपियन सयाली गोखले; 2010 की राष्ट्रीय महिला चैंपियन अदिति मुटाटकर, तथा अश्विनी पोनप्पा जिन्होंने कई खिताब अपने नाम किए हैं, जिनमें शामिल हैं 2009, 2013 तथा 2017 में राष्ट्रीय महिला डबल्स चैंपियनशिप, महिला डबल्स 2011 में विश्व चैंपियनशिप में कांस्य विजेता; 2010 में राष्ट्रमंडल खेलों में महिला डबल्स में स्वर्ण पदक विजेता।