मार्च 2017 | संगीता मेनन

रॉयल रीट्रीट

रामबाग पैलेस, संभवतः ताज समूह में लक्ज़री पैलेस होटलों में सबसे अधिक चर्चित है। ऐसा मात्र जयपुर के महान महारानी स्व. गायत्री देवी के कारण नही है, जिनकी उपस्थिति आज भी महसूस की जाती है। जयपुर में 47 एकड़ पर व्यवस्थित रूप से फैली 78 कमरों की यह संपत्ति आम के पेड़ों से आच्छादित सुसज्जित उद्यानों के सामने स्थित है। भीतर चमकदार झाड़फानूसों, वर्दीधारी स्टाफ और भव्य सुइट्स मेहमानों को राजसी वैभव की दुनिया में ले जाते हैं। इससे बेहतर आश्चर्य कुछ नहीं मनीष गुप्ता, महाप्रबंधक, रामबाग पैलेस, संगीता मेनन, के साथ बातचीत करते हुए स्वीकार करते हैं कि पहली बार यहां आने पर वे “चकित” रह गए थे।

मनीष गुप्ता, महाप्रबंधक, रामबाग पैलेस, इस होटल के विशिष्ट रीगल अनुभव के बारे में बताते हैं

रामबाग पैलेस किस तरह से महलों और किलों के लिए प्रसिद्ध इस शहर के 5-सितारा होटलों के बीच अपनी विशिष्टता को बनाए रखता है?
रामबाग पैलेस, जयपुर का प्रतिष्ठित पैलेस है। 1835 में एक छोटी शिकारगाह से लक्ज़री पैलेस में और फिर लक्ज़री होटल में इसका रूपांतरण मेहमानों में काफी जिज्ञासा पैदा करता है। रामबाग के इतिहास के साथ जयपुर शहर की समृद्ध कला, संस्कृति और इतिहास जुड़ कर इस पैलेस को विशिष्ट बना देता है।

इस पैलेस से जयपुर की महारानी स्व.गायत्री देवी के बेहद खूबसूरत रॉयल निवास की कुलीनता और विशिष्टता का रस टपकता है। इसके प्रतिष्ठित व सच्चे विक्टोरियाई अंदरूनी साजसज्जा से लेकर राजपूताना स्थापत्य तक, इतावली क्रिस्टल झाड़फानूसों से लेकर संगेमरमर की कलाकृतियों तक, इस पैलेस की मूल स्थिति को दशकों से कठिन प्रयासों के साथ संभाल कर रखा गया है।

जब हमारे मेहमान रामबाद पैलेस के रॉयल दरवाजों से होकर गुजरते हैं तो वे उस गहन अनुभवात्मक यात्रा का हिस्सा बन जाते हैं जो उनको इस शहर के पहले के राजसी ठाठबाट की एक झलक देता है। यह पैलेस एक खूबसूरत कहानी बताता है जो इसके मेहमानों के विचारों पर तब हानी होती है जब वे इसके गलियारों और करीने से सजे बागीचों से टहलते हुए गुजरते हैं।

आज दुनिया का शायद ही कोई ऐसा होटल ब्रांड होगा जो जयपुर में उपस्थित ना हो। रामबाग पैलेस को दूसरों से अंतर निर्धारित करने के लिए हमने अपने समृद्ध इतिहास, संस्कृति और परंपरा को अद्वितीय वैश्विक अनुभव के साथ जोड़ा है। इस होटल में आने वाले मेहमान यकीनन एक पैलेस के इतिहास औऱ भव्यता की अपेक्षा रखते हैं, लेकिन वे बेहरीन वाई-फाई, खानपान, आधुनिक सुविधा आदि जैसी सुविधाओं के साथ भी कोई समझौता नहीं करना चाहते हैं। पिछले 50 वर्षों में हम अपने मेहमानों को ये सब कुछ दे पाने में सक्षम रहे हैं वो भी हमारी मूल शक्ति — हमारी विरासत और इतिहास के साथा बिना समझौता किए।

रामबाग पैलेस तथा ताज लेक पैलेस उदयपुर भारत के उन पहले पैलेसों में शामिल हैं जो लक्ज़री होटल में रूपांतरित हुए। अभी तक की यात्रा कैसी रही है?
रामबाग पैलेस, यकीनन उस समय से काफी आगे बढ़ चुका है। जबकि इसका इतिहास इसे भारत के सबसे रहस्यपूर्ण लक्जरी पैलेस में से एक बनाता है, बरसों के कलात्मक परिष्करण के माध्यम से यह सबसे अधिक आकर्षक हो गया है। 19वीं सदी के अंत से लेकर 20वीं सदी तक (और हाल ही में 2002 व 2015 का सुधार) किए गए काम ने इस पैलेस को राजस्थान के सबसे इच्छित राजसी गंतव्यों में से एक में रूपांतरित कर दिया है।

सेवा के दृष्टिकोण से इस पैलेस ने रॉयल बटलरों के रीगल चार्म को बरकरार रखा है, जबकि साथ ही आधुनिक मानक प्रक्रियाएं भी अपनाई हैं। आज रामबाग पैलेस पारंपरिक मूल्यों और समकालीन सेवा का सटीक मिश्रण का प्रतिनिधित्व करता है।

आपके अनुसार वे शीर्ष तीन कारण कौन से हैं जो गुलाबी शहर में आने वाले आगंतुकों को रामबाग पैलेस चुनने का कारण बनते हैं।
इस पैलेस का समृद्ध इतिहास, हमारे द्वारा प्रदत्त रीगल जीवन शैली और ताज की अद्वितीय छुवन, के साथ हमारी टीम द्वारा प्रस्तुत सेवा की सच्ची गर्माहट हमारे मेहमानों के लिए स्मणीय अनुभव का निर्माण करती हैं।

रीगल अनुभवों में पैलेस का एक ऐतिहासिक टूर व प्रसिद्ध स्व.महाराजा सवाई मानसिंह II, और स्व. महारानी गायत्री देवी सहित सबसे प्रसिद्ध निवासियों के बारे में जानकारी शामिल है। शाम के सांस्कृतिक प्रदर्शन भी राजसी जीवन का प्रतिबिम्ब हैं — चाहे वह जयपुर घराने का ‘कथक’ या सूफी संस्करण, आप आज के समय में उनका प्रदर्शन शायद ही कहीं होता देखेंगे। एक और अनुभव जिसकी मैं मजबूत अनुशंसा करुंगा, वह है हमारे शेफ के साथ हमारे विशिष्ट जड़ी-बूटी उद्यान की यात्रा; आप अपनी सामग्री खुद चुनें और शेफ आपके सामने बेहतरीन स्थानीय आहार बना कर पेश करेंगे। यदि आप इस पैलेस में किसी जश्न की यात्रा का हिस्सा हैं तो हमारे विशिष्ट अनुभवों जैसे पैलेस के मैदानों में बेहतरीन व्यवस्था में विशेष डिनर का आनंद लें जिसमें आपकी सेवा में उपस्थित निजी बटलर होगा जो विंटेज कार में उस स्थान तक लेकर जाएगा।

विशिष्ट रामबाग पैलेस, ताज समूह का एक लक्ज़री होटल हैं जो पारंपरिक मूल्यों और समकालीन सेवा का स्टीक मिश्रण है

इस पैलेस के मेहमानों के बारे में हमें कुछ बताएं।
रामबाग पैलेस संभवतः एकमात्र ऐसा पैलेस है जो लेज़र व व्यापार दोनो तरह के मेहमानों को आकर्षित करता है। अधिकतम लेज़र मेहमान यूएस से आते हैं जिसके बाद, यूके, जर्मनी, ब्राज़ील और ऑस्ट्रेलिया से आते हैं। हाल के दिनो में हमने नोटिस किया है कि भारतीय टूरिस्ट भी रॉयल अनुभव की तलाश में यहां आने लगे हैं। लेज़र ट्रिप पर आए मेहमानों को राजकुमारी और राजकुमार की एक कहानी का एहसास के लिए आते हैं, जो राजपूताना वैभव के सुनहरे काल में यहां रहे थे, और रामबाग पैलेस उनकी अपेक्षाओं पर सदा खरा उतरता है।

हमने अनेक कारपोरेट लीडरों, सरकारी अधिकारियों और देशों के मुखियाओं का मेहमानों के रूप में स्वागत किया है। व्यापारी यात्री हमारे पैलेस में आधुनिकतम व्यावसायिक सुविधाओं की अपेक्षा के साथ आते हैं और रामबाग पैलेस अबाध रूप से उनकी सबसे कठिन व्यावसायिक जरूरतों को पूरा करता है। इसके अलावा, यह पैलेस उच्च प्रोफाइल वाली डेस्टिनेशन वेडिंग व प्रीमियम उत्पाद लॉन्च का पसंदीदा स्थान है।

‘ताजनेस’ की परिकल्पना किस तरह से रामबाग पैलेस में प्रकट होती है?
ताजनेस भारतीय परंपरा और मेहमाननवाज़ी का प्रतीक है। ताजनेस की परिकल्पना व फलसफा हर बार ताज के हमारे मूल्यों और इन मूल्यों के साथ हमारे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की क्षमता पर खरा उतरने से संबंधित है। ताजनेस एक ऐसा अनुभव निर्मित करने के बारे में भी है जो हमारे मेहमानों को उस क्षेत्र की संस्कृति की बारीकियों का आनंद लेने देती है जहां वह ताज होटल स्थित है।

रामबाग पैलेस प्रत्येक सेवा पहलू में राजसी राजपूताना परंपरा के सर्वश्रेष्ठ को प्रतिबिंबित करता है। हमारा चेक-इन अनुभव हो, अद्वितीय डाइनिंग विकल्प, शाम के रिचुअल या विशिष्ट दोपहर की चाय हो, हमारी टीम अपने मेहमानों को उनके कदम रखने के साथ ही सर्वश्रेष्ठ आतिथ्य देने के लिए कठोर प्रयास करती है। हमारे लोगों की विनम्रता, हमारी सेवाओं की उत्कृष्टता और हर संपर्क बिंदु पर छोटे-छोटे सुखद आश्चर्यों का निर्माण रामबाग पैलेस में हमारे मेहमानों के लिए ताजनेस के सर्किल को पूर्णता प्रदान करते हैं।

हमें उन मशहूर हस्तियों और प्रतिष्ठित व्यक्तियों के बारे में बताएं जिनकी पैलेस ने मेजबानी की।
रामबाग पैलेस ने अनेक प्रतिष्ठित लोगों का स्वागत किया है। इस सूची में — दूसरे अनेक लोगों के साथ , लॉर्ड व लेडी माउंटबेटन, जैकलीन कैनेडी, प्रिंस चार्ल्स और दलाई लामा ने इनके गलियारों में चहलकदमी की है। हाल के समयों में हमारे पैलेस ने भारत के प्रधानमंत्री और 14 देशों के मुखियाओं का स्वागत किया है। जयपुर लिटरेरी फेस्टिवल ने हमें मशहूर लेखकों व स्कालरों की मेहमाननवाज़ी का अवसर भी दिया है।

इस संपत्ति को कायम रखने में आपको किन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है?
विरासती संरचना होने के कारण इसके रखरखाव व देखभाल में महत्वपूर्ण विशेषज्ञता, निवेश और प्रयास लगते हैं। सौभाग्य से हमारे पास पुरानी पीढ़ी के कुछ लोग अभी भी उपलब्ध हैं जो इस पैलेस के प्रत्येक संगेमरमर, धातु या लकड़ी के महत्व को समझते हैं। हालांकि हमने कई नवीकरण किए है फिर भी हम ध्यान रखते हैं कि इस पैलेस की सिंफनी बाधित ना हो। सबसे बड़ी चुनौती इश संरचना के विरासती मूल्य के संरक्षण के साथ-साथ इसको बेहतर करने के बीच का संतुलन हासिल करना है जिससे कि हमारे मेहमानों की अपेक्षाओं को पूरा किया जा सके। दूसरा संतुलन जिसकी हम हमेशा इच्छा रखते हैं वह उन लोगों की पीढ़ियों के बीच का है जो यहां काम करते हैं जैसे बूमर, एक्सर्स और मिलेनियल्स।

यहां पर आपका सबसे अविस्मरणीय अनुभव क्या रहा है?
अक्टूबर 2013 में पहली बार यहां आने के बाद से चल रही यह यात्रा, रोमांच से भरपूर है। मेरे लिए, इस खूबसूरत पैलेस होटल को महाप्रबंधक के रूप में चलाना, मेरे जीवन के हर दिन में सपने को जीने जैसा है। चाह वह किसी विशिष्ट व्यक्ति का स्वागत करना हो या कॉकटेल या बड़ा बैंक्वेट होस्ट करना हो, हर चीज चुनौतीपूर्ण और मजे से भरपूर है।

यह लेख टाटा रिव्यू के जनवरी-मार्च 2017 के संस्करण में पहली बार प्रकाशित हुआ था। ईबुक यहां पर पढ़ें