टाटा कैपिटल

टाटा समूह की अग्रणी वित्तीय सेवा कंपनी टाटा कैपिटल टाटा संस की एक अनुषंगी कंपनी है और यह सिस्टमैटिकली इम्पोर्टेंट नॉन डिपॉजिट एक्सेप्टिंग कोर इनवेस्टमेंट कंपनी (सीआईसी) के रूप में भारतीय रिजर्व बैंक में पंजीकृत है। बतौर सीआईसी टाटा कैपिटल मूल रूप से एक होल्डिंग कंपनी है जो अपनी अनुषंगी कंपनियों तथा अन्य ग्रुप कंपनियों को निवेश मुहैया करता है और इसमें 1000-2500 कर्मचारी कार्यरत है और इसके 1000 से अधिक ग्राहक संपर्क केन्द्र हैं। टाटा कैपिटल और इसकी अनुषंगी कंपनियां अनेक सेवाओं में संलग्न हैं तथा वित्तीय सेवा क्षेत्र में इसके कई प्रॉडक्ट हैं और ये प्रॉडक्ट/सेवाएं टाटा कैपिटल ब्रांड के तहत मुहैया कराए जाते हैं।

टायर I, टायर II और टायर III शहरों में अपने 1000 ग्राहक संपर्क केन्द्रों के जरिए कंपनी का ध्यान मुख्य रूप से कोष मुहैया करने और शुल्क-आधारित वित्तीय सेवाएं उपलबध कराने पर है।

व्यापार के क्षेत्र

टाटा कैपिटल द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली सेवाएं इसके रिटेल, कॉरपोरेट और सांस्थानिक ग्राहकों की विभिन्न वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रत्यक्ष या परोक्ष, अपने अनुषंगी इकाइयों के जरिए प्रदान की जाती हैं:

  • वितरण और ब्रोकिंग: ब्रोकिंग, निवेश बैंकिंग सेवा, डिपॉजिटरी सहभागी सेवाएं तथा म्यूचुअल फंड यूनिटों के वितरण जैसी सेवाएं और रिटेल तथा इंस्टीट्यूशनल थर्ड पार्टी इनवेस्टमेंट प्रॉडक्ट्स ।
  • उपभोक्ता वित्त: नई और पुरानी कार ऋण, टू व्हीलर ऋण, व्यक्तिगत ऋण, गृह ऋण,व्यवसाय ऋण, क्रेडिट कार्ड, कंज्यूमर ड्यूरेबल ऋण, संपत्ति के एवज में ऋण, प्रतिभूति के एवज में ऋण, रिटेल ग्राहकों के लिए व्यावसायिक वाहन ऋण और टाटा एआईए एवं टाटा एआईजी के कॉरपोरेट एजेंट के रूप में बीमा वितरण।
  • व्यावसायिक वित्त: बड़े, मध्यम, छोटे, उदीयमान कॉरपोरेट के लिए वित्तीय उत्पाद और उनके ईकोसिस्टम तथा सरकार एवं सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के लिए मूल्य-आधारित समाधान। उपलब्ध कराए जाने वाले प्रॉडक्ट में शमिल हैं- खरीद इनवॉइस डिस्काउंटिंग, एसएमई ऋण, फ्लेक्सी ऋण, सावधिक ऋण, कार्यशील पूंजी मांग ऋण, लीज रेंटल डिस्काउंटिंग, शेयर के एवज में ऋण, संपत्ति के एवज में ऋण, निर्माण उपकरणों तथा अन्य उपकरणों के लिए संपत्ति वित्त (रेंटल सहित), सिंडिकेशन तथा संरचित वित्त।
  • लीजिंग समाधान: सेंचुरी टोक्यो लीजिंग कॉरपोरेशन (टीसी-लीज) की सहभागिता में टाटा कैपिटल समग्र, नवप्रवर्तनकारी और समाधान उन्मुख संपदा वित्तीयन समाधान उपलब्ध कराते हैं। इस समाधान के तहत आते हैं विविध संपदा वर्ग जिसमें शामिल हैं सामान्य और विशेषीकृत संयंत्र और मशीनरी, कंप्यूटर और दूरसंचार के उपकरण, अवसंरचना संपदा, रेलवे, एटीएम, व्यावसायिक वाहन और कॉरपोरेट के कर्मचारियों के लिए पैसेंजर कार तथा ऑफिस उपाकरण और अन्य साधन जैसे रूफटॉप सोलर, एलईडी लाइटिंग आदि।
  • निवेश बैंकिंग: विलय और अधिग्रहण, इक्विटी और ऋण व इक्विटी सिंडिकेशन पर सलाहकारी सेवाएं और कॉरपोरेट तथा लघु और मध्यम उद्यमों के लिए प्रॉजेक्ट परामर्श।
  • निजी इक्विटी: पांच कोषों के जरिए भारत तथा अन्य देशों में निवेश: टाटा ऑपरचुनिटीज फंड, टाटा कैपिटल ग्रोथ फंड, टाटा कैपिटल हेल्थकेयर फंड, टाटा कैपिटल इनोवेशंस फंड तथा टाटा कैपिटल स्पेशल सिचुएशंस फंड-ट्रस्ट।
  • वेल्थ प्रॉडक्ट वितरण: कॉरपोरेट फिक्स्ड डिपोजिट, म्युचुअल फंड, पोर्टफोलियो मैनेजमेंट सेवाओं (पीएमएस), निजी इक्विटी फंड और संचरित उत्पादों, रियल इस्टेट सेवाओं और जीवन बीमा के हाई नेट वर्थ इंडिविजुअल्स के लिए अनेक निवेश प्रस्ताव।
  • निवेश परामर्शी सेवाएं: पोर्टफोलियो परामर्शी सेवाएं, वित्तीय नियोजन सेवाएं, सेवानिवृति योजना सेवाएं, इस्टेट प्लानिंग तथा ट्रस्टीशिप सेवाएं एवं कर नियोजन और परामर्शी सेवाएं।
  • ग्रामीण वित्त: ग्रामीण ग्राहकों के लिए प्रासंगिक वित्तीय प्रॉडक्ट जिसमें शामिल है कृषि उपकरणों के लिए ऋण तथा कृषि और संबंधित व्यवसाय के लिए ऋण।
  • क्लीनटेक एवं अवसंरचना वित्त: स्वच्छ तकनीक को बढ़ावा देने वाली कंपनियों के लिए वित्तीय और परामर्शी सेवाएं। प्रमुख क्षेत्रों में आते हैं ऊर्जा दक्षता, नवीकरणीय ऊर्जा निर्मान परियोजनाएं जैसे कि पवन ऊर्जा, लघु जलविद्युत, सौर ऊर्जा, बायोमास और अपशिष्ट शोधन, जल प्रबंधन परियोजनाएं और ऐसी परियोजनाएं जो कार्बन फुटप्रिंट में कमी लाते हों।

संयुक्त उपक्रम, अनुषंगी, एसोसिएट्स

  • टाटा कैपिटल फाइनांशियल सर्विसेज(टीसीएफएसएल): टाटा कैपिटल की एक पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी कंपनी जो भारतीय रिजर्व बैंक के पास एक सुव्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण नॉन डिपॉजिट, नॉन-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी)के रूप में पंजीकृत है। टीसीएफएसएल के तीन मुख्य व्यवसाय क्षेत्र हैं- कॉरपोरेट वित्त, उपभोक्ता वित्त और परामर्शी तथा ग्रामीण वित्त।
  • टाटा कैपिटल हाउसिंग फाइनांस(टीसीएचएफएल): टीसीएचएफएल टाटा कैपिटल की एक पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी कंपनी है जो हाउसिंग वित्त की गतिविधियों के लिए एनएचबी में पंजीकृत है।
  • टाटा क्लीनटेक कैपिटल(टीसीसीएल): टाटा कैपिटल और आईएफसी, वाशिंगटन डीसी, यूएस का यह संयुक्त उपक्रम एक सुव्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण नॉन डिपॉजिट, नॉन-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी)के रूप में पंजीकृत है और यह नवीकरणीय ऊर्जा, ऊर्जा दक्षता अपशिष्ट प्रबंधन और जल प्रबंधन की परियोजनाओं के लिए वित्त और परामर्शी सेवाएं उपलब्ध कराता है। समय के साथ, हाल ही में इनफ्रास्ट्रक्चर फाइनांस कंपनी लाइसेंस हासिल करने के बाद टीसीसीएल इस क्षेत्र में भी अन्य संबंधित उत्पाद मुहैया कराएगा।
  • टाटा सिक्योरिटीज (टीएसएल): रिटेल एवं सांस्थानिक वितरण एवं ब्रोकिंग में संलग्न टाटा कैपिटल की एक पूर्ण अनुषंगी इकाई टीएसएल बीएसई तथा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया के एक सदस्य के रूप में थर्ड-पार्टी म्युचुअल फंड इंवेस्टमेंट प्रॉडक्ट्स वितरित करता है तथा बाइंग, सेलिंग या प्रतिभूतियों में डीलिंग की सुविधाएं पेश करता है, जिसमें फ्यूचर्स तथा ऑप्शंस शामिल हैं। टीएसएल एक डिपिजिटरी प्रतिभागी है। टीएसएल सेबी में भी कैटगरी 1 मर्चेंट बैंकर तथा पोर्टफोलियो मैनेजर के रूप में पंजीकृत है। टीएसएल ने खुद को सेबी (रिसर्च एनालिस्ट्स) विनियमन 2014 के तहत रिसर्च एनालिस्ट के रूप में भी पंजीकृत किया है।
  • इंटरनेशनल ऐसेट रिकंस्ट्रस्ट्रक्शन कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (आईएआरसी): IARC को आइबीआइ प्रतिभूतिकरण तथा पुनर्संचना कंपनी के रूप में पंजीकृत किया गया है और इसे 2002 में बैंकिग तथा वित्तीय सेवा सेक्टर के पेशेवरों द्वारा वित्तीय परिसंपत्तियों की पुनर्संचना के लिए बढ़ावा दिया गया था। TCFSL का आइएआरसी में 25.37% हिस्सेदारी है।
  • टाटा कैपिटल की टाटा ऑटोकॉम्प सिस्टम्स(टीएसीओ), में 24% इक्विटी है, जो वाहन उद्योग को उत्पाद और सेवाएं मुहिया करता है।
  • नेक्टर लॉयलिटी मैनेजमेंट (नेक्टर): संयुक्त उपक्रम में टाटा कैपिटल की हिस्सेदारी 49% और एआईएमआईए (जिसे पहले ग्रुप एरोप्लेन इंक. कहा जाता था) की हिस्सेदारी 51% है।
  • टाटा कैपिटल फाइनांस सर्विसेज की डेवलपमेंट क्रेडिट बैंक, जो निजी क्षेत्र का एक प्रगतिशील बैंक है, की इक्विटी कैपिटल में लगभग चार प्रतिशत हिस्सेदारी है।

कुछ अन्य संयुक्त उपक्रमों और साझेदारियों में शामिल हैं:

  •  मिज़ुहो सिक्योरिटीज के साथ निजी इक्विटी, क्रॉस बॉर्डर विलय सहित निवेश बैंकिंग तथा अधिग्रहण, ब्रोकिंग और वितरण सहिए प्रतिभूति व्यवसाय, संरचित वित्त तथा अन्य व्यावसायिक क्षेत्रों जैसे वेल्थ मैनेजमेंट में व्यवसाय सहयोग उपलब्ध कराना।
  •  मिज़ुहो कॉरपोरेट बैंक (एमएचसीबी) के साथ क्रॉस-मार्केट वैल्यू क्रिएशन क्षमताओं में वृद्धि लाते हुए, भारतीय एवं जापानी बाजारों की गहरी समझ हासिल करने में एक दूसरे की मदद करने के अलावा प्रतिस्पर्धी लाभों को प्रबल करते हुए व्यवसाय सहयोग बढ़ाना। समझ के एक अंग के रूप में टाटा कैपिटल तथा एमएचसीबी व्याकर बिजनेस क्षेत्रों में सहयोग करेंगे। इनमें से कुछ हैं- निंजा लोंस, प्रॉजेक्ट तथा इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस तथा ट्रीजरी प्रॉडक्ट्स।
  •  मित्सुबिशी यूएफजे सिक्योरिटीज के साथ नीतिगत व्यवसाय क्षेत्र के व्यापक विस्तार में सहयोग का एक आधार निर्मित करना जिसमें शामिल हैं क्रॉस बॉर्डर निवेश बैंकिंग, भारतीय इक्विटीज के ग्लोबल ऑफरिंग तथा स्थानीय बॉन्ड बाजार के विकास की दिशा में।
  • वर्ल्ड बैंक ग्रुप के एक सदस्य  इंटरनेशनल फाइनांस कॉरपोरेशन (आईएफसी), के साथ टाटा क्लीनटेक कैपिट्ल का निर्माण जिसका उद्देश्य है ऋण और परामर्शी सेवाओं के जरिए लघु, मध्यम तथा साथ ही बड़ी कंपनियों को स्वच्छ प्रौद्योगिकी के प्रोत्साहन हेतु प्रदान करना।
  •  कनैडियन लॉयलिटी मार्केटिंग की बड़ी कंपनी एआईएमआईए (जिसे पहले ग्रुप एरोप्लेन कहा जाता था) – के साथ मिलकर भारत में एक वैश्विक बहु-पक्षीय गठबंधन लॉयलिटी कार्यक्रम की शुरुआत।
  • सेंचुरी टोक्यो लीजिंग कॉरपोरेशन के साथ मिलकर भारत में लीज पर उपकरण देने की विकासशील सेवाओं के लिए लीजिंग समाधान पेश करना।

स्थान

कंपनी का मुख्यालय भारत के मुंबई में है।

यह प्रोफाइल नवम्बर 24, 2017 को 15:33 भारतीय मानक समय पर अद्यतन किया गया था।
अधिक जानकारी के लिए कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट देखें (वेबसाइट लिंक इस पृष्ठ पर 'संपर्क' अनुभाग में उपलब्ध है)